बिटकॉइन क्या है?

बिटकॉइन क्या है? How Many Bitcoins Are There Now

बिटकॉइन का इतिहास

Bitcoin एक प्रछन्न या ना दिखाई देने वाली मुद्रा है और भुगतान करने की डिजिटल पद्धति है. Bitcoin की खोज “सातोशी नाकामोतो” नामक समूह ने किया था. ०3 जनवरी सन 2001 को बिटकॉइन को आधिकारिक तौर उन्मुक्त सॉफ्टवेयर की तर्ज पर बाज़ार में लाया गया. इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से आप किसी भी बैंक को बिना मध्यस्थी बनाये भुगतान का लेन-देन कर सकते है.

बिटकॉइन के इस्तेमाल पर ना तो कोई लेन-देन शुल्क लगता है और न ही इसमें उपयोगकर्ता के वास्तविक नाम की आवश्यकता होती है. बहुत से व्यवसाइयों ने इसे स्वीकृत करना और इसके माध्यम से व्यापार करने कि शुरुआत भी कर दिया है. बिटकॉइन से आप व्यापारिक माल की खरीद-फ़रोख्त नामरहित होकर भी कर सकते है.

बिटकॉइन के माध्यम से राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय भुगतानों का आदान-प्रदान बहुत ही आसान हो जाता है क्योंकि इसके विनियमन पर किसी भी तरह का कोई भी बंधन नहीं होता है. कुछ लोग बिटकॉइन को निवेश के तौर पर इस उम्मीद के साथ खरीदते है ताकि उनकी मूल्यांकन में बढोत्तरी हो सके. यह एक ऐसी डिजिटल करंसी है जिसे कि डिजिटल वालेट में रखा जाता है.

हम सभी इस बात से भली-भांति परिचित है कि रूपए, डॉलर और यूरो को सारी दुनिया में खरीदा-बेचा जाता है लेकिन क्या आप जानते है कि बिटकॉइन की भी खरीद-फ़रोख्त की जाती है वो भी एक्सचेंज के माध्यम से परन्तु उसका कोई भी आधिकारिक स्वरुप नहीं है. इसकी लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि गोल्डमैन सॉक्स और न्यूयार्क स्टॉक एक्सचेंज ने बिटकॉइन की यह कहकर कि यह बहुत ही तेज़ और तकनीक में बहुत ही कुशल है प्रशंसा की है. यही वजह है कि दुनियाभर के व्यवसायी और बहुराष्ट्रीय कम्पनियां अपने वित्तीय लेन-देन के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे है.

कानूनी अस्वीकरण -इसे ना तो आरबीआई ने और ना ही किसी अन्य विधि नियामक ने कानूनी मान्यता दी है

Bitcoin की सबसे ज्यादा चर्चा इस बात को लेकर है कि इसका इस्तेमाल काला धन, हवाला और असामाजिक गतिविधियों में ज्यादा से ज्यादा किया जा रहा है. बिटकॉइन ने सभी सुरक्षा एजेंसियों की नींदे उड़ाकर रखी है. बिटकॉइन को लेकर सबसे अहम् बात जिसने सारी दुनियां को चौंका कर रख दिया है कि इसे ना तो आरबीआई ने और ना ही किसी अन्य विधि नियामक ने कानूनी मान्यता दी है.

Bitcoin दुनिया कि सबसे महंगी करेंसी बन चुकी है. इस समय बिटकॉइन को बाज़ार में या एक्सचेंज में २९० डॉलर में बेचा जा सकता है. इसके उपयोगकर्ता सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में मौजूद है और इनके उपयोगकर्ताओं की संख्या में दिनोंदिन बढोत्तरी ही हो रही है. छोटे और बड़े कारोबारियों के लिए बिटकॉइन एक सस्ता, तेज और सुरक्षित साधन है. सबसे चौकाने वाली बात तो ये है कि बिटकॉइन किसी भी प्रकार के कानूनी दायरे में नहीं आता है. बिटकॉइन से रुपयों-पैसों के लेन-देन पर बहुत ही नाममात्र का शुल्क वसूल किया जाता है जबकि यही लेन-देन अगर आप क्रेडिट कार्ड से करते है तो आपको ज्यादा शुल्क चुकाना पड़ता है.

Bitcoin का इस्तेमाल कारोबारी अपने कारोबार को बदने के लिए करते है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी है जो इसका दुरुपयोग भो कर रहे है. ड्रग्स और नशीली दवाओं की खरीद-फ़रोख्त के लिए भी बिटकॉइन का इस्तेमाल किया जा रहा है.  इतना ही नहीं कर चोरी के मामले में बिटकॉइन की सहभागिता ने तो सभी वित्तीय नियामको की नींद उड़ाकर रखी है.  अब तो बिटकॉइन के माध्यम से फिरौती भी मांगी जा रही है और इस तरह से सारे इस तकनीक ने पुलिस विभाग को हिलाकर रख दिया है.

वैसे देखा जाए तो भारत में Bitcoin का भविष्य उज्जवल ही है क्योंकि हमारे देश एक से बढकर एक आईटी के विशेषज्ञ मौजूद है. भारत में भुगतान का आदान-प्रदान करने के बहुत सारे तरीके है लेकिन इन सबमे बिटकॉइन ही एकमात्र ऐसा साधन है जिससे कि पैसों का लेन-देन बहुत ही सस्ता होता है.                                     

 

  You May also Like

Bitcoin (बिटकॉइन) कैसे काम करता है ?

दुनियाभर कि मुद्रा को आप देख सकते है और छु भी सकते है लेकिन Bitcoin दुनिया कि एकमात्र ऐसी मुद्रा है जिसे आप ना तो देख सकते है और ना ही इसे छु सकते है.

यदि आज के समय के हिसाब से इसका मूल्यांकन किया जाए तो एक Bitcoin ६५६ डॉलर का होता है जिसकी भारतीय मुद्रा में मूल्य ४५०००/-होता है. जिस तरह से सेंसेक्स घटता-बढता रहता है ठीक उसी तरह Bitcoin का मूल्य भी कम-ज्यादा होता रहता है.

Share Button
बिटकॉइन क्या है? How Many Bitcoins Are There Now was last modified: January 17th, 2018 by जनहित में जारी

Comments

comments