बिजली का बिल कम करने के 50 उपाय – 50 Ways To Reduce Your Electricity Bill

आज के दौर का सबसे पेचीदा सवाल यही है कि बिजली कैसे बचाए ? बहुत उपाए करने के बाद भी हम पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं बचा पाते है और उसका परिणाम महीने के अंत में बड़े भारी बिजली बिल के रूप में सामने आता है. बिजली बिल को कम करने की जिम्मेदारी हम सभी लोगो पर है क्योंकि इसका दुरुपयोग बिलकुल भी जायज नहीं है. आज भी भारत के कई ऐसे शहरी और ग्रामीण इलाके है जहा पर पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं है. बिजली, पेट्रोल, गैस और ऐसे अन्य ईधन जो हमें मुश्किल से मिलता है और जिसके लिए हमें धन चुकाना पड़ता है उसका दुरुपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि ये ईधन के वो साधन है जो कि सीमित और समाप्त होने वाले साधन है. लेकिन यदि हम सौर उर्जा का उपयोग करते है तब तो चिंता की कोई बात ही नहीं है. दोस्तों आज मै आपको बिजली बचाने के कुछ उपाए बताने जा रहा हूँ जिसको अमल में लाकर आप भी महीने के अंत में आने वाले भारी भरकम बिजली बिल में कटौती कर सकते है:-

एयर कंडीशनर कैसे काम करता है

 

 

  1. सबसे पहले तो आपके घर में बिजली से चलने वाले जितने भी उपकरण है उनकी किसी अच्छे बिजली का काम जानने वाले व्यक्ति से अच्छी तरह जाँच करवाए. आवश्यकता से अधिक पुराने घरेलु बिजली से चलने वाले उपकरण ज्यादा बिजली की खपत करते है. इन उपकरणों की या तो अच्छे से मरम्मत करवाएं या फिर इन्हें बदल कर इनकी जगह नए और कम बिजली की खपत करने वाले उपकरण लगवाएं जिससे कि महीने के अंत में आने वाले बिजली बिल में कटौती की जा सके.

 

  1. बहुत से घरो में आज भी २० से २५ साल पुराने हो चुके फ्रिज, टेलीविज़न,वाशिंग मशीन और अन्य विद्युत् उपकरणों का इस्तेमाल किया जा रहा है. इतने पुराने हो चुके उपकरणों के अवयव घिस चुके होते है और ये जरूरत से ज्यादा बिजली की खपत करते है इसीलिए इन उपकरणों को बदल कर इनके स्थान में आधुनिक तकनीक से निर्मित फ्रिज, टेलीविज़न और वाशिंग मशीन लाना चाहिए. इन आधुनिक उपकरणों की खासियत होती है कि ये कम से कम बिजली की खपत करते है.

 

  1. सबसे ज्यादा बिजली का बिल गर्मी के दिनों में आता है और उसका कारण अधिक मात्र में इस्तेमाल किये जाने वाले एयर कंडीशनर और कूलर है. जिस कमरे में आप एयर कंडीशनर का उपयोग करने जा रहे है उस कमरे में पर्याप मात्रा में अँधेरा रखे और कोशिश करे कि उस कमरे में सूर्य का प्रकाश और ट्यूब लाइट्स एवं बल्ब्स का कम से कम इस्तेमाल हो. कमरे में जितना अधिक प्रकाश होगा एयर कंडीशनर के कंडेंसर पर उतना ही ज्यादा लोड पड़ेगा फलस्वरूप बिल तो ज्यादा आएगा ही साथ ही साथ एयर कंडीशनर ख़राब भी हो सकता है. इसीलिए कोशिश करनी चाहिए कि कमरे का तापमान कम से कम रखा जाए ताकि आपका एयर कंडीशनर अच्छे से काम कर सके और बिजली की खपत को कम कर सके.

 

  1. अपने घरो में हमें सामान्य बल्ब्स और ट्यूब लाइट्स की जगह एलइडी और सीएफएल बल्ब्स का इस्तेमाल करना चाहिए. ये बिजली की खपत को बहुत हद तक कम कर देते है. देखा जाए तो ये बल्ब्स सामान्य बल्ब्स के मुकाबले काफी महंगे होते है लेकिन महीने के अंत में आने वाले बिजली के बिलों में ये बल्ब्स बड़ी भारी कटौती भी करते है और बिजली की बचत भी करते है. ये एलइडी और सीएफएल बल्ब्स जल्दी ख़राब भी नहीं होते है और सही ढंग से इस्तेमाल करने पर ये सालो साल चलते रहते है.

 

  1. आज कल की व्यस्त और भाग दौड़ वाले जीवन में इंसान मोबाइल और लैपटॉप का बहुत अधिक आदि हो चुका है. यही वजह है कि जब मोबाइल और लैपटॉप को चार्जिंग पर लगाया जाता है तो चार्ज हो जाने के बाद भी आदमी स्विच बोर्ड का स्विच बंद करना भूल जाता है और मोबाइल और लैपटॉप चार्ज हो जाने के बाद भी चार्जिंग पर लगे रहते है. इससे भी बिजली की खपत बहुत अधिक मात्रा में होती है. इसी प्रकार रिमोट वाले टेलीविज़न में भी रिमोट से टीवी को बंद तो कर दिया जाता है लेकिन सेट टॉप बॉक्स को घंटो घंटो तक चालू कर के छोड़ दिया जाता है और तो और टीवी का स्विच तक कई घंटो तक चालू ही रहता है. कई घंटो तक चालू रहने से बिजली की खपत कई गुना तक बढ़ जाती है और परिणामस्वरुप हमारे सामने हजारो रुपयों का बिल होता है जिसे हमें अपनी जेब काट कर भरना ही पड़ता है.

 

  1. ठण्ड के मौसम में गीजर और पानी गर्म करने वाले इलेक्ट्रिक रॉड का इस्तेमाल भी कई गुना तक बढ़ जाता है. ये दोनों ही उपकरण बहुत अधिक मात्रा में बिजली की खपत करते है. कई बार ऐसा होता है कि पानी गरम हो जाने के बाद भी गीजर और इलेक्ट्रिक रॉड को चालू ही छोड़ दिया जाता है और पानी घंटो तक उबलता ही रहता है. यदि किसी भी कारण से उपरोक्त उपकरण पानी को पर्याप्त मात्र में गरम नहीं कर पा रहे है तो इन उपकरणों की जांच करवाए. ये उपकरण आपकी बिजली की खपत को सामान्य से ५ गुना तक बढ़ा देते है.

 

  1. आजकल प्रत्येक घर में माइक्रोवेव का इस्तेमाल आम बात हो गई है लेकिन कई बार ऐसा होता है कि हम छोटी से छोटी खाने की वस्तु को गरम करने या पकाने के लिए भी माइक्रोवेव का इस्तेमाल करते है जो कि गलत है और हमारी लापरवाही को दर्शाते है. माइक्रोवेव में उन्ही चीजों को पकाना चाहिए जिन चीजों को पकाने का उसमे निर्देश दिया होता है. प्री हीट का इस्तेमाल कम से कम करे या फिर ज्यादा जरूरत होने पर ही करे. माइक्रोवेव भी बहुत अधिक मात्रा में बिजली की खपत करता है इसीलिए इसके इस्तेमाल में बहत अधिक सावधानी रखना चाहिए.

 

  1. प्रायः हर घर में ही प्रेस का इस्तेमाल होता है. प्रेस का व्यर्थ इस्तेमाल करने से बचना चाहिए और प्रेस के गरम हो जाने के बाद स्विच को भी ध्यान से बंद करना चाहिए.

 

  1. फ्रिज लगभग सभी घरो में होता है और बारहों महीने इस्तेमाल किया जाता है. फ्रिज की समय समय पर सफाई करते रहना चाहिए. फ्रीज़र में जमी बर्फ को गलाकर हटाना चाहिए. फ्रिज में जमी बर्फ बिजली की खपत को बढ़ा देती है और फ्रिज के दरवाजे को भी ज्यादा देर तक खुला नहीं छोड़ना चाहिए.

 

  1. हमें कोशिश करनी चाहिए की अपने घरो में ज्यादा से ज्यादा सौर उर्जा वाले उपकरणों का इस्तेमाल करना चाहिए. इन उपकरणों के इस्तेमाल से बिजली की खपत कम से कम होगी और बिजली बिल की बचत भी भरपूर होगी.

 

  1. जहाँ तक संभव हो सके घरो से पुराने पंखे हटा देना चाहिए. क्योंकि ज्यादा पुराने हो जाने के कारण पंखे के अवयव जाम हो जाते है जिससे कि स्विच चालू करने पर पंखिया देर से घुमती है या फिर आवाज़ करते हुए घुमती है. ये पंखे भी बिजली की खपत को बढ़ा देते है. पुराने हो चुके पंखो की या तो मरम्मत करवाएं या फिर इन्हें बदल कर इनके स्थान पर आधुनिक तकनीक से निर्मित पंखो को अपने घरो में लगाये.

 

  1. समय समय पर हमें अपने घर के मीटर की भी जांच करवाते रहना चाहिए. कई बार मीटर में खराबी आ जाने के कारण भी बिजली की खपत बढ़ जाती. ऐसे में किसी अच्छे बिजली का काम करने वाले से मीटर की जांच करवाना चाहिए.

 

  1. तो दोस्तों उपरोक्त उपायों को अमल में लाकर आप ना केवल बिजली की फ़िज़ूल खर्ची को रोक सकते है बल्कि बिजली बिल की बचत भी कर सकते है.
Share Button
बिजली का बिल कम करने के 50 उपाय – 50 Ways To Reduce Your Electricity Bill was last modified: July 14th, 2017 by जनहित में जारी

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *