What is shradh (Pitru Paksha) – पितृ पक्ष Puja Vidhi

Pitri Paksha  को  अलग अलग नमो से जानते है कही कही  श्राद्ध पक्ष (Shraaddh Paksha), कनागत, (Kanagat),  महालय पक्ष, (Mahalaya Paksha), सर्वपितृ अमावस्या ( Sarvapitri Amavasya), महालय अमावस्या (Mahalaya Amavasya), Apara Paksha और  Jitiya आदि नमो से जाना जाता है 

पितृ पक्ष का महत्व

हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार मनुष्य पर तीन प्रकार के ऋण माने गए हैं- पितृ ऋण, देव ऋण और ऋषि ऋण।जिसमे पितृ ऋण सर्वोपरि है। पितृ ऋण में पिता के आलावा माता तथा वे सब बुजुर्ग भी सम्मिलित हैं, जिन्होंने हमें अपना जीवन धारण करने तथा उसका विकास करने में सहयोग दिया है

श्राद्ध के नियम

पितृपक्ष में हिन्दू लोग मन कर्म एवं वचन से संयम  का नियमित जीवन जीते है और  अपने पितरों को स्मरण करके जल चढाते हैं;गरीबों और ब्राह्मणों को दान देते हैं। पितृपक्ष के 15 दिनों में प्रत्येक परिवार में मृत माता-पिता का श्राद्ध तर्पण किया जाता है,

त्रिविधं श्राद्ध मुच्यते के अनुसार मत्स्य पुराण में तीन प्रकार के श्राद्ध बतलाए गए है, जिन्हें नित्य, नैमित्तिक एवं काम्य श्राद्ध कहते हैं।

गया श्राद्ध के नियम-

गया श्राद्ध का विशेष महत्व है। वैसे तो इसका भी शास्त्रीय समय निश्चित है, परंतु ‘गया सर्वकालेषु पिण्डं दधाद्विपक्षणं’ कहकर सदैव पिंडदान करने की अनुमति दे दी गई है।गया जी के बारे में हम बचपन से सुनते आये है जी हाँ गया में दो जगह श्राद्ध होता है एक नदी जिसको “फल्गु नदी”  कहते है जहा भगवन श्री राम ने अपने पिता राजा दसरथ का श्राद्ध किया था और दूसरा स्थान विष्णुपद मंदिर है जहा स्वयं भगवान विष्णु के चरण उपस्थित है यह मंदिर भी गया में है

हर वर्ष आश्विन मास का कृष्ण प्रतिपदा से लेकर अमावस्या तक ब्रह्माण्ड की ऊर्जा के साथ पितृप्राण पृथ्वी पर व्याप्त रहता है।मृत्यु के बाद दशगात्र और षोडशी-सपिण्डन तक मृत व्यक्ति की प्रेत संज्ञा रहती है

 

 

Date

श्राद्ध

Day

5 September 2017 पूर्णिमा श्राद्ध Monday
6 September 2017 प्रतिपदा श्राद्ध Tuesday
7 September 2017 द्वितीया श्राद्ध Wednesday
8 September 2017 तृतीया श्राद्ध Thursday
9 September 2017 चतुर्थी श्राद्ध Friday
10 September 2017 पंचमी श्राद्ध Saturday
11 September 2017 षष्ठी श्राद्ध Sunday
12 September 2017 सप्तमी श्राद्ध Monday
13 September 2017 अष्टमी श्राद्ध Tuesday
14 September 2017 नवमी श्राद्ध Wednesday
15 September 2017 दशमी श्राद्ध Thursday
16 September 2017 एकादशी श्राद्ध Friday
17 September 2017 द्वादशी श्राद्ध त्रयोदशी श्राद्ध Saturday
18 September 2017 चतुर्दशी श्राद्ध Sunday
19 September 2017 सर्व पितृ अमावस्या Monday

 

 

Share Button
What is shradh (Pitru Paksha) – पितृ पक्ष Puja Vidhi was last modified: December 23rd, 2017 by जनहित में जारी

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *