Lakmé (लैक्मे) के रोचक तथ्य

Lakmé भारतीय नारी की सुन्दरता का प्रतीक है जो कि उसकी अद्वितीय सुन्दरता और कामुकता की अभिव्यक्ति करता है. लैक्मे हमेशा से ही ऐसे निपुण उत्पाद और सेवाओं को भारतीय बाज़ार में लेकर आता है जो कि भारतीय नारी की जरूरतों को अच्छी तरह से समझता है. ये उत्पाद और सेवाएँ भारतीय नारी की उसके स्वयं के रूप को पहचानने में उसकी मदद करते है फिर वो चाहे उसकी कामुकता, असलियत, अभिव्यंजना हो या फिर उसकी जिंदादिली और उसकी सहजता ही क्यों ना हो. लैक्मे ने हमेशा ही भारतीय नारी की नारीत्व की क्षमता को सुन्दरता को और उसकी कामुकता को उभारने में उसकी मदद ही की है.

Lakmé भारत का सबसे बड़ा पहला सौंदर्य ब्रांड था और इसे पिछले 50 सालों से भारतीय सुन्दरता का एकमात्र प्रतीक होने का गौरव हासिल है. ये एक संपूर्ण सौन्दर्य ब्रांड है जो कि रंगों से भरे प्रसाधन सामग्री, त्वचा की देखभाल से सम्बंधित उत्पाद और बालों की बनावट से सम्बंधित उत्पादों की एक विशाल श्रंखला का बाज़ार में विस्तार किया है और तो और इसने सौंदर्य सेवाओं को लैक्मे सौन्दर्य पार्लर के विशाल नेटवर्क के माध्यम से दूर-दूर तक फैलाया है. इसका सौन्दर्य और फैशन के साथ बड़ा ही अनूठा बंधन है जो कि लैक्मे फैशन सप्ताह के माध्यम से व्यक्त भी होता है. लैक्मे फैशन सप्ताह देश का सबसे बड़ा फैशन कार्यक्रम है. लैक्मे के पास अपने स्वयं के तकरीबन 1200 विक्रय केंद्र है जिसमे सबसे ज्यादा सौंदर्य सलाहकार का एक वृहद समूह भी है.

Why was the cosmetics company named Lakme?

        Lakmé की स्थापना सन 1952 को इसके संस्थापक जेआरडी टाटा द्वारा की गई थी. लैक्मे पूरी तरह से एक भारतीय सौंदर्य ब्रांड है जो कि हिंदुस्तान यूनिलीवर का ही एक अंग है. भारत के तमाम सौंदर्य प्रसाधनों में लैक्मे आज भी शीर्ष में है. लैक्मे से जुडी सबसे दिलचस्प बात ये है कि इस ब्रांड का नाम भारतीय देवी माँ लक्ष्मी के नाम पर रखा गया है जो कि धन, सौभाग्य और सौंदर्य की देवी है. माँ लक्ष्मी से ही लैक्मे की उत्पत्ति हुई है. भारत के प्रथम प्रधानमंत्री श्री जवाहरलाल नेहरु ने स्वयं जेआरडी रतन टाटा को निजी तौर पर ये सिफारिश की थी कि वो भारतीय नारी के सौंदर्य के लिए सौंदर्य उत्पादों का निर्माण भारत में ही करे क्योंकि उन्हें इस बात की भी चिंता थी कि भारतीय नारी रोजाना ही विदेशी सौंदर्य उत्पादों में कितने ही रुपयों को खर्च कर दिया करती थी.

Lakmé का उद्देश्य और दृष्टिकोण यही है कि वो ज्यादा से ज्यादा लोगो को अपने सौन्दर्य ब्रांड का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित कर सके ताकि लोग अच्छा महसूस कर सके और पर्यावरण के प्रदुषण से होने वाली सौन्दर्य हानि को कम कर सके. भारत में इतनी सारी बहुराष्ट्रीय सौंदर्य प्रसाधन के उत्पादों की बड़ी-बड़ी कंपनी है लेकिन लैक्मे ने आज भी भारतीय नारी के दिलों में अपना एकछत्र राज कायम रखा हुआ है.

Lakme logo lakme tagline

Lakmé ने समस्त भारत में सौंदर्य उद्योग में सौंदर्य पार्लर के माध्यम से अपने एक और व्यवसाय की सफलतापूर्वक शुरुआत की है. हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड के भारत में तकरीबन 110  पार्लर है जो कि सौंदर्य सेवाएँ उपलब्ध करवाती है. ब्रांड ट्रस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक लैक्मे को भारत के सभी सौंदर्य उत्पादों में 47वां स्थान प्राप्त है जो कि भारत का सबसे ज्यादा विश्वसनीय ब्रांड है. भारत का सबसे बड़ा फैशन कार्यक्रम लैक्मे फैशन सप्ताह है. लैक्मे इसका सबसे बड़ा प्रायोजक है. पूर्व में इसे भारतीय फैशन सप्ताह के नाम से जाना जाता था.

रेवलोन और मैब्लिन जैसे विश्वव्यापी सौन्दर्य ब्रांड के आने के बावजूद भी लैक्मे के पास अभी भी भारतीय सौंदर्य प्रसाधन के बाज़ार में बहुत बड़ा शेयर है. साल दर साल लैक्मे की लोकप्रियता और विश्वसनीयता बढती ही जा रही है. भारतीय नारियों में लैक्मे अभी भी सबसे ज्यादा भरोसेमंद ब्रांड बना हुआ है. इतने सारे विश्व्यापी उत्पादों की मौजूदगी के बावजूद भी लैक्मे के उत्पादों का हमारे भारतीय बाज़ार में आज भी एकछत्र राज कायम है.

Lakmé ने हाल ही में अपना एकमात्र लैक्मे प्रशिक्षण संस्थान की शुरुआत भी की है जहाँ पर आप सौंदर्य प्रसाधक बनने का प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकते है. इस संस्थान में व्यावसायिक सौंदर्य प्रसाधक तो प्रशिक्षण प्राप्त कर ही सकते है साथ ही साथ वो लोग भी प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते है जो सौंदर्य प्रसाधन के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते है.

Lakmé 1900 करोड़ का सफलतापूर्वक व्यवसाय करने वाली भारत की सबसे बड़ी और सबसे ज्यादा प्रभावशाली कंपनी बन चुकी है. लैक्मे के उत्पादों की भारत में इतनी जबरदस्त मांग है कि कई शहरो की नारियाँ बड़ी संख्या में इसके उत्पादों का इस्तेमाल कर रही है. इस क्षेत्र के अनुभवी लोगों का मानना है कि सौन्दर्य प्रसाधनों के उत्पाद लगातार बढ़ते ही जा रहे है. लैक्मे के उत्पादों की एक खासियत ये भी है कि इसके उत्पादों का इतना बड़ा बाज़ार और इतनी मांग होने के बावजूद भी ये ज्यादा महंगे नहीं है और हर वर्ग और तबके की औरते इसे आसानी से खरीद सकती है. इन उत्पादों की कीमत ही २००/- से ६००/- के बीच होती है जो कि हर किसी के लिए खरीदना आसान होता है.

Lakmé एक ऐसा ब्रांड है जो कि भारतीय सौंदर्य और सौंदर्य प्रसाधनों का पर्याय बन चुका है और यही एक ऐसा ब्रांड है जो हम सब अपने जन्म के समय से देखते सुनते आ रहे है. लैक्मे एक ऐसा ब्रांड है जिसे हम बचपन से अपनी माँ, बहन और पड़ोसियों को इस्तेमाल करते हुए देख रहे है. ये एक ऐसा ब्रांड है जिससे हमारे सौंदर्य प्रसाधनों के सफ़र की शुरुआत हुई है. इतनी खूबियों के बावजूद भी आज भी लैक्मे भारत का सबसे लोकप्रिय, विश्वसनीय और चहेता ब्रांड बना हुआ है जो कि हमारे सौंदर्य और त्वचा की देखभाल करता है. इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि भारतीय बाज़ार में रोज़ान कितने तरह के सौंदर्य उत्पाद मौजूद है या आते रहते है और इस बात से भी कोई फ़र्क नहीं पड़ता है कि कितने ही अंतर्राष्ट्रीय उत्पादों ने उन्हें सौन्दर्य प्रसाधनों की दौड़ से बाहर कर दिया है लेकिन लैक्मे आज भी एक ऐसा एकमात्र ब्रांड है जो कि ना केवल समय की कसौटी पर और अपने उत्पादों के गुणवत्ता पर  खरा उतरता है बल्कि हम सबके दिलों में अपने लिए एक खास जगह भी बनाता है. इस बात में कोई संदेह नहीं है कि शायद ही कोई ऐसी लड़की होगी जिसने लैक्मे के उत्पाद इस्तेमाल नहीं किये है या नहीं करती होगी.

Share Button
Lakmé (लैक्मे) के रोचक तथ्य was last modified: September 13th, 2017 by जनहित में जारी

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *